मंगलवार, 15 नवंबर 2011

गलत क्या है ग़लतफ़हमी में

..................................................

आदत सी पड़ गयी है जीने की ग़लतफ़हमी में !
दिल बहल जाये, गलत क्या है ग़लतफ़हमी में !!

तारे फ़लक से तोड़ के लाया है भला कौन !
प्यार में यूँ भी जिए लोग ग़लतफ़हमी में !!

कहा ये किसने, गलत ग़म शराब करती है !
उम्र भर पीते रहे, हम भी ग़लतफ़हमी में !!

हाथ वो छोड़ भी सकता है बीच धारा में !
ये तो सोचा ही नहीं हमने ग़लतफ़हमी में !!

वक़्त ठहरा है कहाँ कब मौत ने मोहलत दी है !
'नीर' जीवन ही गंवा बैठे ग़लतफ़हमी में !!

................................................

31 टिप्‍पणियां:

kshama ने कहा…

तारे फ़लक से तोड़ के लाया है भला कौन !
प्यार में यूँ भी जिए लोग ग़लतफ़हमी में !!

कहा ये किसने, गलत ग़म शराब करती है !
उम्र भर पीते रहे, हम भी ग़लतफ़हमी में !!
Kamaal kee panktiyan hain!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

तारे फ़लक से तोड़ के लाया है भला कौन !
प्यार में यूँ भी जिए लोग ग़लतफ़हमी में !!

कहा ये किसने, गलत ग़म शराब करती है !
उम्र भर पीते रहे, हम भी ग़लतफ़हमी में !!

वाह , बहुत खूबसूरत गज़ल ..यूँ तो सारी ज़िंदगी ही गलतफहमी में ही बीत जाती है ..

रश्मि प्रभा... ने कहा…

कहा ये किसने, गलत ग़म शराब करती है !
उम्र भर पीते रहे, हम भी ग़लतफ़हमी में !!
bahane banate aur dhoondhte rahe galatfahmi me

रंजना ने कहा…

वाह गहरी बात...सुन्दर अंदाजे बयां..

बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल....वाह !!!!

tapish kumar singh 'tapish' ने कहा…

bahut khoob likha apne

RAKESH ने कहा…

बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 16-- 11 - 2011 को यहाँ भी है

...नयी पुरानी हलचल में आज ...संभावनाओं के बीज

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

वक़्त ठहरा है कहाँ कब मौत ने मोहलत दी है !
'नीर' जीवन ही गंवा बैठे ग़लतफ़हमी में !!

क्या बात है।
बहुत खूब सर!

सादर

प्रतीक माहेश्वरी ने कहा…

खूबसूरत!
ग़लतफ़हमी में तो ये दुनिया ही चल रही है फिर हमारी-आपकी क्या बिसात?

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

हाथ वो छोड़ भी सकता है बीच धारा में !
ये तो सोचा ही नहीं हमने ग़लतफ़हमी में !!

बेहतरीन ...... खूब कहा

Anju ने कहा…

..इस नीर - ए -चश्म में सागर की पीर है ! ग़र ना हो तुझे यकीं तो चख के देख ले !
खूबसूरत अलफ़ाज़ से शुरुआत ,...तो है ही ,ग़ज़ल भी उम्दा है

आदत सी पड़ गयी है जीने की ग़लतफ़हमी में !

हाथ वो छोड़ भी सकता है बीच धारा में !
ये तो सोचा ही नहीं हमने ग़लतफ़हमी में !

वक़्त ठहरा है कहाँ कब मौत ने मोहलत दी है !
'नीर' जीवन ही गंवा बैठे ग़लतफ़हमी में !

गलतफ़हमी के विचार को सही पकड़ा है आपने ....

...

Reena Maurya ने कहा…

आदत सी पड़ गयी है जीने की ग़लतफ़हमी में !
दिल बहल जाये, गलत क्या है ग़लतफ़हमी में !!
beautiful...

shikha varshney ने कहा…

क्या बात है ...बढ़िया...

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

सुन्दर रचना...
सादर बधाई

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

sach kaha galatfehmi me tamam umr tabaah ho jati hai.

Sadhana Vaid ने कहा…

बहुत खूब गज़ल कही है आपने ! हर शेर लाजवाब है ! बहुत सुन्दर !

अनुपमा पाठक ने कहा…

जीवन में कुछ भ्रमों का बने रहना अच्छा ही होता है! सुंदर भाव!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

हाथ वो छोड़ भी सकता है बीच धारा में !
ये तो सोचा ही नहीं हमने ग़लतफ़हमी में !!

बहुत खूब!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

बहुत खूब!

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

मारने को हैं उतारु कुछ गलतफहमियाँ मगर
अब तलक ज़िंदा भी तो हैं गलतफहमी में.

खूबसूरत अशआर ने दिल लूट लिया.

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…






प्रिय बंधुवर निर्झर'नीर'जी
सस्नेहाभिवादन !

आपकी अन्य रचनाओं की तरह प्रस्तुत रचना भी प्रभावित करती है-
तारे फ़लक से तोड़ के लाया है भला कौन !
प्यार में यूं भी जिए लोग ग़लतफ़हमी में !!

कहा ये किसने, गलत ग़म शराब करती है !
उम्र भर पीते रहे, हम भी ग़लतफ़हमी में !!

वाह जी वाऽऽह… ! क्या कहने है …
बहुत ख़ूब !

बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
- राजेन्द्र स्वर्णकार

बेनामी ने कहा…

great to meet you nirjharneer.blogspot.com admin discovered your site via search engine but it was hard to find and I see you could have more visitors because there are not so many comments yet. I have discovered website which offer to dramatically increase traffic to your blog http://xrumerservice.org they claim they managed to get close to 1000 visitors/day using their services you could also get lot more targeted traffic from search engines as you have now. I used their services and got significantly more visitors to my site. Hope this helps :) They offer link popularity seo training backlink service 1000 backlinks Take care. Jay

Rajput ने कहा…

"कहा ये किसने, गलत ग़म शराब करती है !
उम्र भर पीते रहे, हम भी ग़लतफ़हमी में ...
बहुत खूब गज़ल है..

निर्झर'नीर ने कहा…

→Ħ@r!§Ħ ji said ..

आदत सी पड़ गयी है जीने की ग़लतफ़हमी में !
दिल बहल जाये, गलत क्या है ग़लतफ़हमी में !!

अच्छा हैं नीर साहब... यथार्थ भी

कहा ये किसने, गलत ग़म शराब करती है !
उम्र भर पीते रहे, हम भी ग़लतफ़हमी में !!

इस बात मैं दम हैं ...काश की उम्र रहते ये बात सभी की समझ मैं आ जाये

अंतिम अशर में आशा का दामन थामे रखने की गुजारिश हैं मित्र ...

जिंदगी मिलती हैं बड़े रहम-ओ-करम से 'नीर'
अब न ठुकरायेगे,, किसी भी ग़लतफ़हमी में

Rakesh Kumar ने कहा…

आदत सी पड़ गयी है जीने की ग़लतफ़हमी में !
दिल बहल जाये, गलत क्या है ग़लतफ़हमी में !!

बहुत अच्छी लगी आपकी प्रस्तुति.
गलतफहमी को बहुत सुंदरता से उकेरा
है आपने.

सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

Dheerendra ने कहा…

बहुत खूब नीर भाई , हमेशा की तरह मन को छूने वाली रचना |

प्रेम सरोवर ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रविष्टि.। मेरे नए पोस्ट 'आरसी प्रसाद. सिंह" पर आकर मुझे प्रोत्साहित करें ।.बधाई ।

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

waah, bahut khoob, har sher bahut kamaal. sach hai galatfehmi mein kya kya na ho jata hai aur kya kya na ho sakta hai...

हाथ वो छोड़ भी सकता है बीच धारा में !
ये तो सोचा ही नहीं हमने ग़लतफ़हमी में !!

tapish kumar singh 'tapish' ने कहा…

bahut khoob guru ji
bahut sundar

NISHA MAHARANA ने कहा…

आदत सी पड़ गयी है जीने की ग़लतफ़हमी में !
दिल बहल जाये, गलत क्या है ग़लतफ़हमी में !!
waah.

prritiy----sneh ने कहा…

waah bahut hi achha likha hai....
ye galatfehmi kabhi jeene ki vajah banti hai to kabhi sab chheen leti hai.

shubhkamnayen