मंगलवार, 10 मई 2011

चाँद माना धरा से बहुत दूर है !

............

चाँद माना धरा से बहुत दूर है ! 
चांदनी ये मगर कब कहाँ दूर है !!

भटकता फिरूं में यहाँ से वहां !
ऱब इन्सान से कब कहाँ दूर है !!

किसी के लिए मांग मन से दुआ !
दुआ से असर कब कहाँ दूर है !!

ये माना तू मुझसे बहुत दूर है ! 
दिल ये मगर कब कहाँ दूर है !!

मिलते नहीं दो किनारे तो क्या !
बीच धारा बहे फिर कहाँ दूर है !!

स्याह काली सही रात ढल जाएगी !
सुबह रात से कब कहाँ दूर है !!

जला तो सही 'नीर' शम्म ए कलम !
कलम हाथ से कब कहाँ दूर है !!


....................... 







 

27 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

चाँद दूर है लेकिन चाँदनी हमें मिल रही है, अतः यह हमेशा पास दिखता है. उम्दा प्रयास, शुभकामनाएँ। अवधेश पाण्डेय

रंजना ने कहा…

वाह...लाजवाब !!!!

बहुत ही सुन्दर....

सभी शेर मन को छूने वाले...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मिलते नहीं दो किनारे तो क्या !
बीच धारा बहे फिर कहाँ दूर है !!

बहुत खूबसूरत गज़ल ...

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर रचना, धन्यवाद

kshama ने कहा…

भटकता फिरूं में यहाँ से वहां !
ऱब इन्सान से कब कहाँ दूर है !!

किसी के लिए मांग मन से दुआ !
दुआ से असर कब कहाँ दूर है !!
Ekek lafz chuninda! Harek pankti ekse badhke ek!

बेनामी ने कहा…

भटकता फिरूं में यहाँ से वहां !
ऱब इन्सान से कब कहाँ दूर है !!

Waah waah waah...
Kyaa baat hai..
Man ko chhu gayee..

Jayant Chaudhary

रचना दीक्षित ने कहा…

स्याह काली सही रात ढल जाएगी !
सुबह रात से कब कहाँ दूर है !!

जला तो सही 'नीर' शम्म ए कलम !
कलम हाथ से कब कहाँ दूर है !!

वाह वाह लाजबाब शेर. बहुत उम्दा. बधाई.

सुमन'मीत' ने कहा…

मिलते नहीं दो किनारे तो क्या !
बीच धारा बहे फिर कहाँ दूर है !!


बहुत सुन्दर निर्झर जी ..आपके नाम के अनुरूप आपकी कलम भी निर्झर चलती है…

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 17 - 05 - 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.blogspot.com/

रश्मि प्रभा... ने कहा…

badhiyaa bahut hi badhiyaa

दिगम्बर नासवा ने कहा…

भटकता फिरूं में यहाँ से वहां !
ऱब इन्सान से कब कहाँ दूर है ...

सच कहा है ... रब तो इंसान के अंदर ही है ... उसे तो पाना होता है ... भटकने से वो कहाँ मिलता है ....
लाजवाब शेर हैं सब इस ग़ज़ल में ....

Hamarivani ने कहा…

क्या आप हमारीवाणी के सदस्य हैं? हमारीवाणी भारतीय ब्लॉग्स का संकलक है.


अधिक जानकारी के लिए पढ़ें:
हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि


हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

सतीश सक्सेना ने कहा…

बहुत खूब भैया .....शुभकामनायें !

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

achchhe bhav....
sundar prastuti...

आशा ढौंडियाल ने कहा…

wah neer ji...sach me bhavon ka nirjhar jharna khub bahaya....badhayi sweekare..

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

बहुत सुन्दर!

श्यामल सुमन ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति.
सादर
श्यामल सुमन
+919955373288
www.manoramsuman.blogspot.com

prritiy---------sneh ने कहा…

किसी के लिए मांग मन से दुआ !
दुआ से असर कब कहाँ दूर है !!

bahut sunder bhaav liye rachna.

shubhkamnayen

Virendra ने कहा…

Bahut khoob....behad Umda...Badhaai!

anu ने कहा…

खूबसूरत गज़ल ....

सतीश सक्सेना ने कहा…

सोंचने को मजबूर करती रचना ...बधाई आपको !

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

जय हो सर जी

क्या खूब गज़ल कही है , कुछ शेर तो सीधे दिल में बस गए और यादो को दस्तक दे गए .. बधाई हो ...

आभार
विजय
-----------
कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

ZEAL ने कहा…

waah...lovely creation...

बेनामी ने कहा…

Best Xrumer service - we publish your marketing message up to 100K forums worldwide price starting only form $29
Get incredible online web traffic using amazing xrumer blast today. We can post your custom message up to 100K forums around the web, get thousands of backlinks and incredible web traffic in very short time. Most affordable and most powerful service for web traffic and backlinks in the world!!!!
Your post will be published up to 100000 forums worldwide your website will get insatnt traffic and massive increase in seo rankings just after few days or weeks. Order now:
xrumer service

CS Devendra K Sharma "Man without Brain" ने कहा…

ये माना तू मुझसे बहुत दूर है !
दिल ये मगर कब कहाँ दूर है !!

mobile chat facebook ye door rahne kahan dete hain???? :)

achhi rachna....

बेनामी ने कहा…

how's life ? nirjharneer.blogspot.com owner discovered your blog via search engine but it was hard to find and I see you could have more visitors because there are not so many comments yet. I have discovered site which offer to dramatically increase traffic to your site http://xrumerservice.org they claim they managed to get close to 1000 visitors/day using their services you could also get lot more targeted traffic from search engines as you have now. I used their services and got significantly more visitors to my site. Hope this helps :) They offer 30 minute backlinks seo consultants backlink service backlinking Take care. steve

अनुपमा पाठक ने कहा…

बहुत सुन्दर!