मंगलवार, 30 दिसंबर 2008

जा रहे हो कौन पथ पर ?


पथ को तुम देखो जरा
मन की आँखें खोलकर
सत्यपथ को छोड़कर तुम
जा रहे हो कौन पथ पर !

ना प्यार के साए है इस पथ
ना कोई हमराह है
काफिलों को छोड़कर तुम
जा रहे हो कौन पथ पर !

ना कोई मंजिल है इस पथ
ना लौटने के है निशाँ
इंसानियत को छोड़कर तुम
जा रहे हो कौन पथ पर !

पाप के पथ आज तक
जो भी गया वो मिट गया
ज्ञान का पथ छोड़कर तुम
जा रहे हो कौन पथ पर !

9 टिप्‍पणियां:

Nirmla Kapila ने कहा…

पाप के पथ जो भी गया मिट गया--बिलकुल सच कहा नववर्ष ंम्घाळांआय़ ःऔ

makrand ने कहा…

पाप के पथ आज तक
जो भी गया वो मिट गया
ज्ञान का पथ छोड़कर तुम
जा रहे हो कौन पथ पर !
bahut khub

नीरज गोस्वामी ने कहा…

ना कोई मंजिल है इस पथ
ना लौटने के है निशाँ
इंसानियत को छोड़कर तुम
जा रहे हो कौन पथ पर !
कितना सही लिखा है आपने...सच्ची मगर कड़वी बात...बेहतरीन रचना...
नीरज

ilesh ने कहा…

hi neer ji aapko padhne ka mauka bahot dino ke baad mila...forum se to aapse mulakat hoti thi magar aaj achanak yaha milna hua behad achha laga...regards

विनय ने कहा…

नववर्ष की हार्दिक मंगलकामनाएँ!

dr. ashok priyaranjan ने कहा…

बहुत अच्छा िलखा है आपने । जीवन और समाज की िवसंगतियों को यथाथॆपरक ढंग से शब्दबद्ध किया है । नए साल में यह सफर और तेज होगा, एेसी उम्मीद है ।

नए साल का हर पल लेकर आए नई खुशियां । आंखों में बसे सारे सपने पूरे हों । सूरज की िकरणों की तरह फैले आपकी यश कीितॆ । नए साल की हािदॆक शुभकामनाएं-

http://www.ashokvichar.blogspot.com

seema gupta ने कहा…

पाप के पथ आज तक
जो भी गया वो मिट गया
ज्ञान का पथ छोड़कर तुम
जा रहे हो कौन पथ पर !
"" बहुत ही नेक और सुंदर जिन्दगी के सार्थक विचारो की प्रस्तुति. " मेरे ब्लॉग पर आपके हर अल्फाज का शुक्रिया."
Regards

रंजना ने कहा…

वाह ! बहुत बहुत सुंदर लिखा है.
ऐसे ही लिखते रहो,शुभकामनाएं.

बेनामी ने कहा…

[url=http://lambada.com]llambada[/url]