बुधवार, 1 अप्रैल 2009

छलक ना जाए लहू

इश्क में फूल चुने थे जो तेरी आंखों से !
बनके अब शूल उगे हैं वो मेरी आंखों से !!

काँप जाती है मेरी रूह वफ़ा की बातों से !
छलक ना जाए लहू दिल का मेरी आंखों से !!

मिलाई तुमसे नज़र हम ये भूल कर बैठे !
छिन गए सारे हसीं ख्वाब मेरी आंखों से !!

है ये हस्ती-ए-ज़ज्बात की आंधी के निशां !
बन के आँसू जो बहे आज मेरी आंखों से !!

लगी थी आग जो दिल में वो बुझा दी मैंने !
फ़िर क्यूँ ? उठता है धुंआ 'नीर' मेरी आंखों से !!



10 टिप्‍पणियां:

mehek ने कहा…

ये हस्ती-ए-ज़ज्बात की आंधी के निशां !
बन के आँसू जो बहे आज मेरी आंखों से !!

लगी थी आग जो दिल में वो बुझा दी मैंने !
फ़िर क्यूँ ? उठता है धुंआ 'नीर' मेरी आंखों से !!

waah behtarin,bahut khub

MANVINDER BHIMBER ने कहा…

लगी थी आग जो दिल में वो बुझा दी मैंने !
फ़िर क्यूँ ? उठता है धुंआ 'नीर' मेरी आंखों से !!

waah kya baat hai...bahut sunder

hempandey ने कहा…

लगी थी आग जो दिल में वो बुझा दी मैंने !
फ़िर क्यूँ ? उठता है धुंआ 'नीर' मेरी आंखों से !!
-सुन्दर. साधुवाद.

Udan Tashtari ने कहा…

लगी थी आग जो दिल में वो बुझा दी मैंने..
फ़िर क्यूँ ? उठता है धुंआ 'नीर' मेरी आंखों से...

-बहुत उम्दा!!

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत बढिया ...

shama ने कहा…

Waqayeeme aapkee kavyroopee neer ek jharneki tarah behta hai...urnaahee swabhavik....jharnepe kab kaun niyantran kar sakta hai...isiliye, har pankt,ek nirmal bahaw liye kabhee chhalak kar to kabhi sayan ho behtee hai..
Anek shubhkamnayen..

Shama ने कहा…

Tippaneeke liye dhanyawaad...kalhi aapka blog padh gayi thi,to aaj naya kya likhun?
Khair, mujhe samajh nahee aa raha ki, meree ye kavita adhooree kyon hai, jabki jis blogpe "kavita.blogspot.com", wahan to pooree hai...kuchh to gadbad huee hai is blogko chitthajagat se jodneme, jo galat blog khul raha hai...shayad aap jis postpe ek kadhayee kiye phoolkee tasveer dekhen, wo updated blog hai...
Mai technichal jaankaaree nahee rakhti, shayad yahi wajeh hai is confusion kee..!

नीरज गोस्वामी ने कहा…

मिलाई तुमसे नज़र हम ये भूल कर बैठे !
छिन गए सारे हसीं ख्वाब मेरी आंखों से !!

Subhan Allah...lajawab sher hai neer saheb...badhaii...
neeraj

रंजना ने कहा…

वाह !! वाह !! बहुत खूब !! दर्द साकार हो गए शब्दों में....
अति भावपूर्ण मर्मस्पर्शी रचना...वाह !!

अवाम ने कहा…

बहुत ही सुन्दर रचना
पहली बार आया आपके ब्लॉग पर अच्छा लगा..
शुभकामनायें..